Coronavirus क्या है, क्या है इसके लक्षण, कैसे इससे बचे



By | March 25, 2020

Coronavirus क्या है,  लक्षण  व बचाव के तरीके जाने – 

 

 

Coronavirus COVID-19 क्या है ? 

कोरोना – यह नाम अब किसी के भी लिए अनजाना नहीं है । चीन से शुरु हुआ यह वायरस अब दुनिया के अधिकतर देशों में फैल चुका है ।भारत भी इससे बच नहीं पाया है, बल्कि जैसे-जैसे समय बीत रहा है, इस वायरस का खतरा बढ़ता ही जा रहा है । भारत में यह सक्रमण पहली बार केरल से सामने आया था । 

पीआईबी की मानें तो भारत में पहली बार कोरोना के शुरुआती केस केरल से सामने आए थे और तब तीन लोग इससे पॉजीटीव पाए गए थे लेकिन उन तीनों लोगों की जांच की गई और आइसोलेशन के बाद उन्हें ठीक करके भेज दिया गया ।

इसके बाद लगातार कईं मामलों की पुष्टि हो चुकी है और जो लोग संदिग्ध पाए गए हैं उन्हें निगरानी में रखा गया है । 

भारत के जिन शहरों से यह मामले सामने आए हैं, उनमें सबसे प्रमुख हैं – दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल और लद्दाख । 

 

कोरोना वायरस से हुये मृत्युदर कितनी है ? 

9 साल तक के बच्चों में- 0 प्रतिशत

10-39 वर्ष तक के लोगों में 0.2 प्रतिशत

40-49 वर्ष तक के लोगों में 0.4 प्रतिशत

50-59 वर्ष तक के लोगों में 1.3 प्रतिशत

60-69 वर्ष तक के लोगों में 3.6 प्रतिशत

60-69 वर्ष तक के लोगों में 3.6 प्रतिशत

70-79 वर्ष तक के लोगों में 8 प्रतिशत

80 से ज्यादा वर्ष के लोगों में 14.8 प्रतिशत

कोरोना की पहचान के लिए इन लक्षणों – 

तेज बुखार आना – अगर किसी व्यक्ति को सुखी खांसी के साथ तेज बुखार है तो उसे एक बार जरूर जांच करानी चाहिए. यदि आपका तापमान 99.0 और 99.5 डिग्री फारेनहाइट है तो उसे बुखार नहीं मानेंगे. अगर तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (37.7 डिग्री सेल्सियस) या इससे ऊपर पहुंचता है तभी यह चिंता का विषय है.

कफ और सूखी खांसी – पाया गया है कि कोरोना वायरस कफ होता है मगर संक्रमित व्यक्ति को सुखी खांसी आती है.

सांस लेने में समस्या – कोरोना वायरस से संक्रमित होने के 5 दिनों के अंदर व्यक्ति को सांस लेने में समस्या हो सकती है. सांस लेने की समस्या दरअसल फेफड़ो में फैलते कफ के कारण होती है.

फ्लू-कोल़्ड जैसे लक्षण – विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर कभी-कभी बुखार, खांसी, सांस में दिक्कत के अलावा फ्लू और कोल्ड जैसे लक्षण भी हो सकते हैं.

डायरिया और उल्टी – कोरोना से संक्रमित लोगों में डायरिया और उल्टी के भी लक्षण देखे गए है. करीब 30 प्रतिशत लोगों में इस तरह के लक्षण पाये गए हैं.

सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी – बहुत से मामलों में पाया गया है कि कोरोना से संक्रमित लोगों को सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी आती है.

कोरोना वायरस से कैसे बचें क्या है इसके उपाए – 

एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन जाने से बचें – डॉक्टरों की सलाह है कि अब जब देश में कोरोना वायरस के मामले इतनी बड़ी तादाद में सामने आ रहे हैं, एयरपोर्ट्स और रेलवे स्टेशन जहां भीड़ भाड़ बहुत अधिक होती है और दूसरे शहरों और देशों से लोग आते हैं, वहां जाने से बचना ही सही कदम होगा। इन जगहों पर तभी जाएं जब जाना बेहद जरूरी हो। साथ ही इन जगहों पर जाएं तो एक फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर साथ रखें ताकि आप अपना ख्याल रख सकें।

भीड़भाड़ वाली जगह जैसे- मॉल या सिनेमा जाने से बचें – मॉल और सिनेमा हॉल में रोजाना सैकड़ों लोग आते हैं। इनमें से कौन वायरस से संक्रमित है ये बताना मुश्किल है। ऐसे में डॉक्टर भी यही सलाह दे रहे हैं कि कोरोनो वायरस से बचने के लिए इस वक्त मॉल और सिनेमा हॉल में न जाएं।

दूसरों से हाथ मिलाने से बचें – ज्यादातर वायरस हाथों से ही फैलते हैं। अगर आपके हाथ गंदे हैं और आप किसी दूसरे व्यक्ति से अपना हाथ मिलाते हैं तो आपके गंदे हाथों में मौजूद वायरस दूसरे व्यक्ति के हाथ तक पहुंच जाते हैं। लिहाजा इस वक्त जब कोरोना वायरस का डर देशभर में फैला हुआ है, बेहतर होगा कि आप किसी से हाथ मिलाने की बजाए उन्हें दूर से ही नमस्ते करें। ऐसा करने से आप वायरस से भी बचे रहेंगे।

आंख, नाक और मुंह में हाथ लगाने से बचें – कोरोना वायरस संक्रमण से बचने का बेहद आसान तरीका यही है कि आप बार-बार अपनी नाक, आंख और मुंह में हाथ लगाने से बचें। दरअसल अगर आपने किसी संक्रमित जगह को छू लिया हो तो और उसके बाद आप अपने चेहरे को हाथ लगाएंगे तो जाने अनजाने आप खुद ही उस वायरस को शरीर में प्रवेश करा सकते हैं। इसलिए डॉक्टर सलाह देते हैं कि अपने फेस को सबसे ज्यादा सुरक्षित रखें। गंदे हाथों से अपनी आंख, नाक और मुंह को बिलकुल न छूएं।

अपने हाथ बार बार धोये क्योंकि इसी से होगा बचाव – हाथ धोना कोरोना वायरस को भगाने का सबसे आसान तरीका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO और सभी बड़े वैज्ञानिक बार बार यही बात कह रहे हैं कि कोरोना वायरस को दूर भगाने के लिए अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करें और बेसिक हाइजीन का पूरा ख्याल रखें। दिनभर में जितनी बार हो सके हाथों को साबुन-पानी से अच्छी तरह से धोएं। अगर पानी से हाथ धोना संभव न हो तो ऐल्कॉहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें जिसमें करीब 70 प्रतिशत ऐल्कॉहॉल हो।

 

 

हाल ही में नौकरियों