रेलवे की रफ्तार पर लगा ‘कोरोना’ ब्रेक, 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनें बंद



By | March 22, 2020

रेलवे की रफ्तार पर लगा ‘कोरोना’ ब्रेक, 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनें बंद

 

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए भारतीय रेल ने बड़ा फैसला लिया है. इंडियन रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है.

रेलवे ने लोगों से अपील की कि आप अपनी और अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए सभी यात्राओं को टाल दीजिए. वहीं, कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोग ट्रेन में यात्रा करने से बच रहे हैं. इसके चलते काफी संख्या में लोगों ने टिकट कैंसिल करवा दिए हैं. साथ ही रेलवे ने 31 मार्च तक कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है.

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए भारतीय रेल ने बड़ा फैसला लिया है. इंडियन रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है.
कोरोना का खौफ, कुछ दिनों के लिए ट्रेन सेवा बंद करने पर हो रहा विचारकोरोना का खौफ, कुछ दिनों के लिए ट्रेन सेवा बंद करने पर हो रहा विचार

31 मार्च 2020 तक पैसेंजर ट्रेनों की सेवा बंदकोरोना संक्रमण रोकने के लिए रेलवे का फैसलारेलवे बोर्ड की बैठक में लिया गया फैसला
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए भारतीय रेल ने बड़ा फैसला लिया है. इंडियन रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है.

.

बहहाल, कुछ रेल यात्रियों में कोरोना वायरस पाए जाने के बाद से ट्रेन में सफर करना जोखिम भरा हो गया है. इसको लेकर रेलवे प्रशासन भी अलर्ट हो गया है और लोगों से ट्रेन में यात्रा करने से बचने की सलाह दी है. रेलवे मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा था, ‘रेलवे ने ट्रेन में यात्रा करने वाले कुछ यात्रियों कोरोना संक्रमित पाया है, जिसने ट्रेन में यात्रा करने को जोखिम भरा बना दिया है. लिहाजा ट्रेन में यात्रा करने से बचें, क्योंकि अगर आपका सहयात्री कोरोना पॉजिटिव है, तो आप भी इसकी चपेट में आ सकते हैं.’

 

रेलवे ने लोगों से अपील की कि आप अपनी और अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए सभी यात्राओं को टाल दीजिए. वहीं, कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोग ट्रेन में यात्रा करने से बच रहे हैं. इसके चलते काफी संख्या में लोगों ने टिकट कैंसिल करवा दिए हैं. साथ ही रेलवे ने 31 मार्च तक कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है.

देश में जनता कर्फ्यू

देश कोरोना से लड़ रहा है, और इस लड़ाई के अहम हथियार की तरह है जनता कर्फ्यू. मतलब जनता खुद सड़कों पर न निकले. इसमें तमाम सेवाएं स्थगित हैं. लेकिन तब भी हर जरूरी सेवा जारी है. इलाज जारी है. जरूरी चीजें मिल रही हैं. टैक्सी बसें चल रही हैं और सारी सेवाओं को उपलब्ध कराने वाले अपनी जान जोखिम में डालकर ऐसा कर रहे हैं.

हाल ही में नौकरियों